RPSC 1ST GRADE HISTORY SYLLABUS IN HINDI PDF

Rpsc 1st Grade History Syllabus in Hindi PDF

Facebook
WhatsApp
Telegram

राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित स्कूल व्याख्याता परीक्षा के लिए इतिहास विषय का हिंदी में पाठ्यक्रम।

RPSC 1ST GRADE HISTORY SYLLABUS IN HINDI PDF

विषय इतिहास 

भाग I- वरिष्ठ माध्यमिक स्तर

1. प्राचीन भारत के स्रोत: साहित्यिक, पुरातत्व, विदेशी यात्रियों का विवरण।

2. सरस्वती-सिंधु सभ्यता (हड़प्पा सभ्यता): उत्पत्ति, विस्तार, ह्रास, पुरातत्व स्थल।

3. महाजनपद का युग, मगध का उदय: हर्यक वंश, शिशुनाग वंश और नंद वंश।

4. मौर्य साम्राज्य: स्थापना, विस्तार, प्रशासन, अर्थव्यवस्था, कला और वास्तुकला।

5. दिल्ली सल्तनत: स्थापना, विस्तार, प्रशासनिक व्यवस्था, सेना, सल्तनत व्यवस्था के दौरान संगठन, भू-राजस्व, इक्ता प्रणाली।

6. भारत में क्षेत्रीय शक्तियों का उदय और औपनिवेशिक शासन की स्थापना 1757 से 1857।

7. ब्रिटिश सर्वोच्चता का विकास।

8. 1857 का विद्रोह: प्रकृति, घटनाएँ, महत्व और परिणाम।

9. यूरोप में पुनर्जागरण और सुधार।

10. प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध: कारण, घटनाएँ और परिणाम।

11. लीग ऑफ नेशन और यूनाइटेड नेशंस।

12. राजस्थान के प्रमुख पुरातत्व स्थल।

13. राजस्थान के राजपूत राजवंशों का उदय: गुहिल, गुर्जर-प्रतिहार, राठौड़, चौहान, कच्छवास।

14. राजपूत प्रतिरोध: प्रथिविराज तृतीय, रणथंभौर के हमीर, रावल रतन सिंह, कान्हड़देव, सांगा, मालदेव, चंद्रसेन और महाराणा प्रताप।

RPSC 1ST GRADE HISTORY SYLLABUS IN HINDI PDF
RPSC 1ST GRADE HISTORY SYLLABUS IN HINDI PDF

भाग- II स्नातक स्तर

1. पूर्व और आद्य इतिहास: पुरापाषाण युग, मध्य पाषाण युग, नवपाषाण युग और चालकोलिथिक युग।

2. वैदिक युग: वैदिक साहित्य, राजनीतिक, सामाजिक, अर्थव्यवस्था, धर्म, दर्शन और अनुष्ठान।

3 जैन धर्म और बौद्ध धर्म का उदय।

4. मौर्योत्तर काल: शुंग, कण्व, इंडो-ग्रीक, कुषाण, पश्चिमी क्षत्रप।

5. गुप्त काल: राजनीतिक और सांस्कृतिक उपलब्धियां। वर्धन राजवंश: राजनीतिक और सांस्कृतिक उपलब्धियां।

6. प्राचीन भारत में विदेशों में भारतीय संस्कृति: पश्चिम एशिया, मध्य एशिया और दक्षिण-पूर्व एशिया।

7. मध्यकालीन भारत के स्रोत।

8. भक्ति आंदोलन और सूफीवाद का विकास।

9 मुग़ल साम्राज्य की नींव और विस्तार और मुग़ल नीतियां: दक्कन, धार्मिक, राजपूत, उत्तर-पश्चिम और मध्य एशिया नीति।

10. मराठा का उदय: शिवाजी की उपलब्धियां, मराठा इतिहास (1680-1761)।

11. भारतीय संवैधानिक विकास (1773-1950)।

12.औपनिवेशिक शासन का आर्थिक प्रभाव: भूमि डे-औद्योगीकरण, धन की निकासी।

13. 19वीं शताब्दी और 20वीं शताब्दी में सामाजिक-धार्मिक सुधार।

14. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम -1857-1919।

15. अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम।

16. औद्योगिक क्रांति।

17. 1789 की फ्रांसीसी क्रांति और नेपोलियन बोनापार्ट की उम्र।

18. इटली और जर्मनी का एकीकरण।

19. 1917 की रूसी क्रांति।

20. 1857 के विद्रोह में राजस्थान की भूमिका।

21. राजस्थान में आदिवासी और किसान आंदोलन।

22. राजपूतों का मुगलों से सहयोग : मान सिंह, राय सिंह, मिर्जा राजा जयसिंह तथा जसवंत सिंह.

भाग- III पोस्ट ग्रेजुएशन स्तर

1. मौर्य काल के बाद का समाज, अर्थव्यवस्था, संस्कृति।

2. दक्कन और दक्षिण भारत सातवाहन, संगम युग, चालुक्य, पल्लव, चोल, राष्ट्रकूट।

3. प्रारंभिक मध्यकालीन भारत के दौरान समाज और सांस्कृतिक विकास।

4. मुगलों की प्रशासनिक व्यवस्था: राजस्व प्रणाली, सैन्य प्रशासन, मनसबदारी और जागीरदारी।

5.मध्यकालीन भारत में आर्थिक और सामाजिक-सांस्कृतिक जीवन।

6. भारत में सामाजिक सुधार और दलित और महिलाओं का उत्थान।

7. 19वीं सदी में शिक्षा और प्रेस का विकास।

8. गांधीवादी युग: गांधी और राष्ट्रीय आंदोलन। राष्ट्रीय आंदोलन में जवाहर लाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, मौलाना आज़ाद, वल्लभ भाई पटेल, सी. राजगोपालाचारी, राजेंद्र प्रसाद, भीम राव अम्बेडकर की भूमिका और योगदान।

9. जर्मनी में नाजीवाद का उदय और इटली में फासीवाद।

10.अरब दुनिया, अफ्रीका और दक्षिण-पूर्व एशिया में राष्ट्रीय आंदोलन..

11. 1949 की चीनी क्रांति।

12. राजस्थान के इतिहास के स्रोत: पुरातत्व, अभिलेखीय और साहित्यिक।

13. राजस्थान में जागृति: सामाजिक परिवर्तन और राजनीतिक जागृति।

14. राजस्थान का एकीकरण: इसके विभिन्न चरण।

15. राजस्थान की कला, स्थापत्य एवं चित्रकला।

भाग IV (शैक्षणिक मनोविज्ञान, शिक्षाशास्त्र, शिक्षण अधिगम सामग्री, शिक्षण अधिगम में कंप्यूटर और सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग)

I. शैक्षिक मनोविज्ञान

• शैक्षिक मनोविज्ञान की अवधारणा, कार्यक्षेत्र और कार्य।

किशोर शिक्षार्थी की शारीरिक, संज्ञानात्मक, सामाजिक, भावनात्मक और नैतिक विकासात्मक विशेषताएं और शिक्षण-अधिगम के लिए इसका निहितार्थ।

सीखने के व्यवहारिक, संज्ञानात्मक और रचनात्मक सिद्धांत और इसके निहितार्थ

वरिष्ठ माध्यमिक छात्रों के लिए।

 मानसिक स्वास्थ्य और समायोजन और समायोजन तंत्र की अवधारणा। • भावनात्मक बुद्धिमत्ता और शिक्षण अधिगम में इसका निहितार्थ।

आय
II शिक्षाशास्त्र और शिक्षण अधिगम सामग्री (के लिए निर्देशात्मक रणनीतियाँ किशोर शिक्षार्थी)

• संचार कौशल और इसका उपयोग।

 शिक्षण मॉडल- अग्रिम आयोजक, अवधारणा प्राप्ति, सूचना प्रसंस्करण, पूछताछ प्रशिक्षण।

• शिक्षण के दौरान शिक्षण-अधिगम सामग्री की तैयारी और उपयोग।

• सहयोगी शिक्षण।

III टीचिंग लर्निंग में कंप्यूटर और सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग • आईसीटी, हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की अवधारणा।

 सिस्टम दृष्टिकोण।

• कंप्यूटर की सहायता से सीखना, कंप्यूटर की सहायता से निर्देश।

विद्यालय व्याख्याता पद की प्रतियोगी परीक्षा हेतु:-

1. प्रश्न पत्र अधिकतम 300 अंकों का होगा। 2. प्रश्न पत्र की अवधि तीन घंटे होगी।

3. प्रश्न पत्र में बहुविकल्पीय प्रश्नों के 150 प्रश्न होंगे।

4. उत्तरों के मूल्यांकन में नेगेटिव मार्किंग लागू होगी। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए उस विशेष प्रश्न के लिए निर्धारित अंकों में से एक तिहाई अंक काट लिए जाएंगे।

5. पेपर में निम्नलिखित विषय शामिल होंगे: –

(i) संबंधित विषय का ज्ञान: वरिष्ठ माध्यमिक स्तर

(ii) संबंधित विषय का ज्ञान: स्नातक स्तर।

(iii) संबंधित विषय का ज्ञान: स्नातकोत्तर स्तर।

(iv) शैक्षिक मनोविज्ञान, शिक्षाशास्त्र, शिक्षण अधिगम सामग्री, शिक्षण अधिगम में कंप्यूटर और सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग।

अन्य विषयों का पाठ्यक्रम – CLICK HERE

Leave a comment

Trending Results

Request For Post

error: Content is protected !!