Social Science Notes for Class 10 (सामाजिक विज्ञान)

Facebook
WhatsApp
Telegram

Social Science Notes for Class 10 (सामाजिक विज्ञान)

अध्याय 1 स्वर्णिम भारत – प्रारम्भ से 1206 ई. तक 

महाजनपद काल ( 600 – 325 ई.पू. )

बौद्ध ग्रंथ अंगुत्तर निकाय के अनुसार 16 महाजनपद 

अफगानिस्तान में 01

पाकिस्तान में 01 

राजस्थान में 01

मध्यप्रदेश में 01 

बिहार में 03

उत्तरप्रदेश में 08

क्रम सं          महाजनपद         राजधानी

1.              काशी         –      वाराणसी

2.              कोशल         –      अयोध्या

3.              वत्स          –       कौशाम्बी

4.               कुरु           –      इन्द्रप्रस्थ

5.              शूरसेन       –      मधुरा 

6.             पांचाल        –     अहिच्छत्र

7.             चेदि           –       शक्तिमती 

8.              मल्ल        –     कुशावती ( कुशीनारा)

9.              अंग          –        चम्पा

10.           वज्जि       –       विदेह और मिथिला

11.            मगध      –        राजगृह

12.           मत्स्य       –      विराटनगर

13.          अवन्ति    –      उज्जयिनी

14.          अश्मक       –       पोतन/ पाटेली

15.          गांधार       –     तक्षशिला

16.          कम्बोज      –     राजपुर / हाटक

राजस्थान के प्रमुख जनपद (Rajasthan ke pramukh janapad )

❖राजस्थान में जनपद शासन व्यवस्था प्राचीन में ही प्रचलित थी।

❖राजस्थान का कुछ क्षेत्र जनपद व्यवस्था में शामिल था।

❖वैदिक सभ्यता के विकास क्रम में राजस्थान में अनेक जनपदों का उदय हुआ। 

❖कालांतर में जनपद महाजनपद में बदल गया।

राजस्थान के प्रमुख जनपद

1.मत्स्य जनपद

2.शिवि जनपद

3.शूरसेन जनपद

4.जांगल जनपद

1.मत्स्य जनपद

❖मत्स्य जनपद की राजधानी विराटनगर (बैराठ )

❖मत्स्य जनपद में सम्मिलित राजस्थान के क्षेत्र – अलवर , भरतपुर,जयपुर व दौसा।

❖मत्स्य जनपद पर मीणाओ का शासन था।

❖पांडवो ने मत्स्य जनपद की राजधानी विराटनगर में अपने अज्ञातवास का अंतिम समय बिताया।

❖मत्स्य शब्द का शाब्दिक अर्थ मछली है।

2.शिवि जनपद

❖शिवि जनपद की राजधानी मध्यमिका (चित्तौड़ )

❖शिवि जनपद के अंतर्गत मेवाड़ का क्षेत्र आता था।

3.शूरसेन जनपद

❖शूरसेन जनपद की राजधानी मधुरा थी।

❖इस जनपद पर यदुवंशी शासको ने शासन किया था।

❖भगवान कृष्ण का संबंध इसी जनपद से था।

❖शूरसेन जनपद का क्षेत्र – भरतपुर, धौलपुर व करौली था।

4.जांगल जनपद

❖जांगल जनपद की राजधानी अहिच्छत्रपुर (नागौर)  थी।

❖जांगल क्षेत्र के अंतर्गत बीकानेर ,जोधपुर और नागौर का क्षेत्र आता था।

❖बीकानेर के शासक स्वयं को जागलन्धर बादशाह कहते थे।

Trending Results

Request For Post

error: Content is protected !!