REET 2022APPLICATION FORM STARTS रीट आवेदन प्रक्रिया प्रारंभ

REET 2022 APPLICATION FORM STARTS रीट परीक्षा की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों के लिए खुश खबर । 23 फरवरी को पेश किए गए राज्य बजट में माननीय मुख्यमंत्री जी ने REET 2022 का आयोजन 23 व 24 जुलाई को करने की घोषणा की । 23 व 24 जुलाई को होने वाली REET परीक्षा केवल पात्रता परीक्षा होगी । REET पात्रता परीक्षा के बाद मुख्य परीक्षा का आयोजन कर्मचारी चयन बोर्ड आयोग द्वारा करवाई जाएगी।

REET APPLICATION FORM START
REET APPLICATION FORM START

REET 2022 APPLICATION FORMS START

REET पात्रता परीक्षा 2022 के लिए ONLINE आवेदन 18 अप्रैल से 18 मई तक किया जाएगा। पिछली बार जिन अभ्यर्थियों ने ONLINE आवेदन किया था , उनको इस बार आवेदन शुल्क नही देना होगा।

REET 2022 TOTAL POST

REET में कोई भी पोस्ट निर्धारित नही की गई है , ये केवल पात्रता परीक्षा होगी । इसके बाद होने वाली शिक्षक भर्ती परीक्षा में पोस्टों का निर्धारण किया जा चुका है । हालांकि विषयानुसार अभी पोस्ट्स का निर्धारण नही किया गया है। शिक्षक भर्ती परीक्षा में 62000 पदों पर परीक्षा प्रस्तावित है  , जिसमे LEVEL – 1 में 15500 पदों पर व LEVEL – 2 पर 45000 पदों पर परीक्षा प्रस्तावित है।

REET 2022 EXAM BY RBSER

जुलाई में होने वाली REET पात्रता परीक्षा का आयोजन माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा ही करवाया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा प्रेस नोट जारी किया जा चुका है , REET LEVEL – 2 की रद्द हुई परीक्षा में जो अभ्यर्थी शामिल हुए थे , उनको दुबारा से आवेदन शुल्क नही लिया जाएगा।

REET 2022 SYLLABUS

REET LEVEL 2 PSYCHLOGY SYLLABUS ( मनोविज्ञान का पाठ्यक्रम )

स्तर – 1 (Level- II)

(कक्षा 6 से 8 तक)

प्रश्न पत्र ।। खण्ड-1 खण्ड का शीर्षक बाल विकास एवं शिक्षण विधियाँ

कुल प्रश्न : 30

कुल अंक : 30

  • बाल विकास – वृद्धि एवं विकास की संकल्पना, विकास के विभिन्न आयाम एवं सिद्धान्त, विकास को प्रभावित करने वाले कारक (विशेष रूप से परिवार एवं विद्यालय के संदर्भ में) एवं अधिगम से उनका संबंध |

  • वंशानुक्रम एवं वातावरण की भूमिका

  • व्यक्तिगत विभिन्नताएँ – अर्थ प्रकार एवं व्यक्तिगत विभिन्नताओं को प्रभावित करने वाले कारक।

  • व्यक्तित्व – संकल्पना , प्रकार व व्यक्तित्व को प्रभावित करने वाले कारक । व्यक्तित्व का मापन।

  • बुद्धि – संकल्पना सिद्धान्त एवं इसका मापन बहुबुद्धि सिद्धान्त एवं इसके निहितार्थ ।

  • विविध अधिगमकर्ताओं की समझ – पिछड़े, विमंदित, प्रतिभाशाली, सृजनशील, अलाभान्वित – वंचित, विशेष आवश्यकता वाले बच्चे एवं अधिगम अक्षमता युक्त बच्चे।

  • अधिगम में आने वाली कठिनाइयाँ

  • समायोजन की संकल्पना एवं तरीके, मायोजन में अध्यापक की भूमिका

  • अधिगम का अर्थ एवं संकल्पना अधिगम को प्रभावित करने वाले कारक ।

  • अधिगम के सिद्धान्त (व्यवहारवाद, गैस्टाल्टवाद, संज्ञानवाद, निर्मितिवाद) एवं इनके निहितार्थ ।

  • बच्चे सीखते कैसे है। अधिगम की प्रक्रियाएँ चिन्तन, कल्पना एवं तर्क (निर्मितिवादी उपागम, आनुभविक अधिगम, संकल्पना मानचित्रण, अन्वेषण एवं समस्या समाधान),

  • अभिप्रेरणा एवं इसके अधिगम के लिए निहितार्थ।

  • शिक्षण अधिगम की प्रक्रियायें राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा- 2005 के संदर्भ में शिक्षण अधिगम की व्यूह रचना एवं विधियाँ

  • आकलन मापन एवं मूल्यांकन का अर्थ एवं उद्देश्य, समग्र एवं सतत मूल्यांकन, उपलब्धि परीक्षण का निर्माण सीखने के प्रतिफल

  • क्रियात्मक अनुसन्धान

  • शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009 अध्यापकों की भूमिका एवं दायित्व ।

REET LEVEL – 2 SOCIAL SCIENCE SYLLABUS ( सामाजिक अध्ययन )

सामाजिक अध्ययन

कुल प्रश्न – 60

कुल अंक – 60

  • भारतीय सभ्यता, संस्कृति एवं समाज

  • सिन्धु घाटी सभ्यता, वैदिक संस्कृति, जैन व बौद्ध धर्म, महाजनपदकाल।

  • मौर्य तथा गुप्त साम्राज्य एवं गुप्तोत्तर काल

  • राजनीतिक इतिहास और प्रशासन, भारतीय संस्कृति के प्रति योगदान भारत 600-1000 ईस्वी वृहत्तर भारत

मध्यकाल एवं आधुनिक काल

  • भक्ति और सूफी आन्दोलन मुगल राजपूत संबंध, मुगल प्रशासन, भारतीय राज्यों के प्रति ब्रिटिश नीति, 1857 का विद्रोह, भारतीय अर्थव्यवस्था पर ब्रिटिश प्रभाव, पुनर्जागरण एवं सामाजिक सुधार भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन (1885-1947)

  • भारतीय संविधान एवं लोकतंत्र भारतीय संविधान का निर्माण व विशेषतायें, उद्देशिका, मूल अधिकार एवं मूल कर्तव्य, सामाजिक न्याय, बाल अधिकार व बाल संरक्षण, लोकतंत्र में निर्वाचन व मतदाता जागरूकता।

सरकार गठन एवं कार्य

  • संसद, राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री एवं मन्त्रिपरिषद् उच्चतम न्यायालय, राज्य सरकार पंचायती राज एवं नगरीय स्व-शासन (राजस्थान के विशेष संदर्भ में) जिला प्रशासन व न्याय व्यवस्था

  • पृथ्वी एवं हमारा पर्यावरण अक्षांश, देशान्तर पृथ्वी की गतियां वायुदाब एवं पवने, चक्रवात एवं प्रति चक्रवात सूर्य एवं चन्द्रग्रहण पृथ्वी के मुख्य जलवायु कटिबन्ध जैवमंडल, पर्यावरणीय समस्याएं एवं समाधान।

  • भारत का भूगोल एवं संसाधन भू-आकृति प्रदेश जलवायु प्राकृतिक वनस्पति, वन्य जीवन, बहुउद्देशीय, नदी घाटी परियोजनाएँ, मृदा, कृषि फसलें, उद्योग, खनिज, परिवहन, जनसंख्या, मानव संसाधन विकास के आर्थिक एवं सामाजिक कार्यक्रम ।

राजस्थान का भूगोल एवं संसाधन

  • भौतिक प्रदेश जलवायु एवं अपवाह प्रणाली, झीले. मृदा जल संरक्षण एवं संग्रहण कृषि फसले, खनिज एवं ऊर्जा संसाधन, राजस्थान की प्रमुख नहरे एवं नदी घाटी परियोजनाऐं परिवहन, उद्योग एवं जनसंख्या पर्यटन स्थल पन एवं वन्य जीवन ।

राजस्थान का इतिहास

  • प्राचीन सभ्यताएँ एवं जनपद, राजस्थान के प्रमुख राजवंशी का इतिहास 1857 की क्रांति में राजस्थान का योगदान, राजस्थान में प्रजामण्डल जनजातीय व किसान आंदोलन , राजस्थान का एकीकरण , राजस्थान के प्रमुख व्यक्तित्व ।

राजस्थान की कला व संस्कृति

  • राजस्थान की विरासत (दुर्ग, महल, स्मारक) राजस्थान के मैले त्योहार एवं लोक कलाएं राजस्थान की चित्रकला, राजस्थान के लोक नृत्य एवं लोक नाट्य , लोक देवता , लोक संत , लोक संगीत एवं संगीत वाद्य यंत्र , राजस्थान की हस्तकला एवं स्थापत्य कला , राजस्थान की वेशभूषा एवं आभूषण , राजस्थान की भाषा एवं साहित्य।

बीमा एवं बैंकिंग प्रणाली –

  • बीमा एवं बैंक के प्रकार , भारतीय रिजर्व बैंक और उसके कार्य , सहकारिता एवं उपभोक्ता जागरूकता।

Leave a comment